karwa chauth ki kahani kya hai

इस लेख में हम आपको karwa chauth ki kahani बताने वाले है। अगर आपको जानना है कि karwa chauth ki kahani kya hai तो इस लेख को पूरा जरूर पढे।

karwa chauth ki kahani kya hai

करवा हिन्‍दू धर्म का एक बेहद ही पवित्र त्‍योहार है। इस दिन सुहागिन महिलाये अपने पति की लम्‍बी उम्र के लिए व्रत रखती है। इस दिन की कहानी काफी पुरानी है। हिन्‍दु धार्मिक मान्‍यताओ के अनुसार देवी जिसका नाम करवा था। तुंगभद्रा नदी के किनारे रहती थी। एक दिन जब उनके पति एक नदी में नहाने के लिए गये तो एक मगरमच्‍छ ने उनका पैर पकड़ लिया। वो मगरमच्‍छ उनका पैर पकड़कर नदी में खीचने लगा।

करवा चौथ कब है 2023

जब करवा केपति को लगा कि उनकी मृत्‍यू बहुत करीब है तो वो अपनी पत्‍नी को पुकारने लगे। करवा अपने पति को बचाने के लिए नदी के किनारे पहुची। करवा ने अपने पति की मगरमच्‍छ से रक्षा करने के लिए अपने हाथ का एक धागा खोलकर एक पेड़ पर बाध दिया। मगरमच्‍छ जब उस पेड़ के करीब आया तो उसका पैर उस धागे में फस गया। इस तरह करवा के पति की मगरमच्‍छ से रक्षा हो गई। करवा के धागे की वजह से मगरमच्‍छ और करवा के पति दोनो की जान बच गई।

जब करवा ने अपने पति की जान बचा ली। तब उसने मगरमच्‍छ को मृत्‍यूदंड देने के लिए यमराज को पुकारा। यमराज ने उस मगरमच्‍छ की जान लेने से इन्‍कार कर दिया। यमराज ने करवा से कहा कि क्‍योकि इस मगरमच्‍छ की आयू अभी काफी बची हुई है जबकि तुम्‍हारे पति की आयू पूरी हो चुकी है। इसलिए मै ऐसा नही कर सकता। यमराज की ये बात सुनकर करवा काफी गुस्‍सा हो गई। उसने यमराज से कहा कि अगर उन्‍होने मगरमच्‍छ को नही मारा तो वो उन्‍हे शाप दे देंगी। करवा की ये बात सुनकर यमराज ने तुरन्‍त मगरमच्‍छ को यमलोक भेज दिया और उसके पति को जीवनदान दे दिया।

करवा चौथ कब है 2023

करवा चौथ का त्‍योहार करवा की याद में ही बनाया जाता है। करवा की तरह ही अपनी पति की हर मुसीबत से बचाने के लिए और उनकी लम्‍बी उम्र की कामना के लिए सुहागिन महिलाये व्रत रखती है। इस दिन सुहागिन महिलाये करवा माता से प्रार्थना करती है कि जिस तरह उन्‍होने अपने पति को मुसीबत से निकाल लिया। उसी तरह वो उनके पतियो को भी हर मुसीबत से बचा ले।

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply