जब भी आप अपने पार्टनर के साथ सैक्‍स सम्‍बन्‍ध बनाये तो हमेशा कंडोम का उपयोग करे। अगर आप ऐसा करते है तो  आप भी सेफ रहते है और आपका पार्टनर भी 

आप एचआईवी पाजिटिव है या निगेटिव, ये जानने के लिए नियमित तौर पर अपना एचआईवी टेस्‍ट करवाते रहे। खासकर तब जब आप कई लोगो के साथ सेक्‍स सम्‍बन्‍ध मनाते हो 

कई लोगो के साथ सेक्‍स सम्‍बन्‍ध ना बनाये। ऐसा करने से आपको एड्स होने का खतरा काफी ज्‍यादा बढ़ जाता है 

अपने इजेक्‍शन को किसी के भी साथ शेयर करने से बचे ना ही खुद किसी ऐसे इजेक्‍शन का उपयोग करे जिसका पहले भी उपयोग किया जा चुका हो 

यदि आपको एचआईवी होने का खतरा अधिक है तो प्री-एक्सपोज़र प्रोफिलैक्सिस (पीआरईपी) पर विचार करें। PrEP एक दैनिक दवा है जो एचआईवी संचरण के जोखिम को काफी कम कर सकती है 

यदि आप किसी वजह से  एचआईवी पॉजिटिव हो गये तो तुरन्‍त एंटीरेट्रोवाइरल थेरेपी (एआरटी) लेना शुरू कर दे। ऐसा करने से इस वाइरस का असर थोडा कम हो जाता है 

एचआईवी/एड्स और इसके खतरो को  लेकर हमेशा अपडेट है। इससे आप काफी हद तक खुद को सेव कर सकते है 

यदि आप प्रेग्नेंट है और आपको एड्स हो गया है। तो इस बात का पूरा ध्‍यान रखे कि आपके बच्‍चे में ये वाइरसस ना पहुंच पाये।  अपने बच्‍चे को इस वाइरस से बचाने के लिए आप किसी डाक्‍टर की सलाह ले सकती है  

अपने पार्टनर के साथ एचआईवी और सेक्‍स को लेकर खुल कर बात करे। उसकी सेक्‍स लाइफ कैसी रही है। इसको लेकर खुल कर चर्चा करे 

खुद भी और अपने आस पास के लोगो को भी प्रेरित करे कि वो एड्स को लेकर हमेशा अपडेट रहे। और लोगो क बीच जागरूकता फैलाते रहे